भारतीय इतिहास - अध्ययन सामग्री १ - प्राचीन इतिहास एवं काल चक्र - सिविल्स तपस्या पोर्टल

SHARE:

हमारी पृथ्वी ४५० करोड़ वर्ष प्राचीन है। आइये, हम इसकी यात्रा समझें, और मानवता के प्रथम पदचिन्ह भी। प्रागैतिहासिक रहस्य खुलने का समय आ गया!

SHARE:


All Govt. Exams  News Headlines   Quizzes  |  UPSC CSE  Quizzes   Current Affairs  Compilations  Answer-writing   |  STUDY RESOURCES  GS-Study Material  |  APTITUDE  Power of Apti  PT Boosters  |  TEST SERIES  CSE 2018 Test Series   Tapasya Annual Package  |  PREMIUM RESOURCES  Here  |  FULL COURSES  Self-Prep Course  Online Course  |  BODHI BOOSTER 

Please study the complete material carefully | Do Like this! | Comment in the thread at the end | Share with friends!





A. 
पृथ्वी की आयु और मानवता की उपस्थिति

पृथ्वी की आयु लगभग 4500 मिलियन वर्ष है (अर्थात 450 करोड़ वर्ष)। इसकी परत के विकास के चार चरण सामने आते हैं।

चौथे चरण को चतुर्भागात्मक (Quarternary) कहा जाता है जो प्लीस्टोसीन (निवर्तमान) और होलोसीन (हिमविहीन युग) में विभाजित किया गया है; पहले चरण का अस्तित्व 10,00,000 से 10,000 वर्षों पूर्व तक था और दूसरा चरण लगभग 10,000 वर्ष पूर्व प्रारंभ हुआ। यह माना जाता है कि धरती पर मनुष्य प्रजाति के जीवन की शुरूआत प्रारंभिक हिमयुग से हुई, जब बैल, हाथी और घोड़े का भी जन्म हुआ। किंतु अब यह प्रतीत होता है कि यह घटना लगभग 26 लाख वर्ष पूर्व अफ्रीका में घटित हुई होगी। This content prepared by Civils Tapasya portal, PT education



   



प्रारंभिक मानवों के जीवाश्म भारत में नहीं पाये गये हैं। प्रारम्भिक मानव की उपस्थिति का एक संकेत पत्थर के औजारों से प्राप्त होता है जो द्वितीय हिमाच्छादन में जमा किये हुए माने जा सकते हंै, जो लगभग 2,50,000 ई.पू. पुराने माने जाते हैं। हालांकि बोरी (महाराष्ट्र) से हाल में प्राप्त कलाकृतियों से ज्ञात होता है कि प्रारंभिक मनुष्य का उदय 1.4 मिलियन वर्षों पूर्व हुआ था। वर्तमान में ऐसा प्रतीत होता है कि भारत में सभ्यता का विकास अफ्रीका के पश्चात हुआ, यद्यपि उपमहाद्वीप की चट्टानी प्रौद्योगिकी का विकास भी उसी तरह हुआ था जैसा कि अफ्रीका में। भारत में प्रारंभिक मानव पत्थर से बने नुकीले हथियारों का उपयोग करते थे जो सिंधु, गंगा, यमुना नदी के जलोढ़ मैदानों को छोड़कर लगभग सारे भारत में पाये गये हैं। पत्थर से बने नुकीले हथियार और नुकीले कंकर शिकार और काटने के अतिरिक्त भी कई उद्देश्यों से उपयोग में लाये जाते थे। इस दौर में मनुष्य केवल शिकार पर जीता था और उसे अपने भोजन को संग्रहित करने का संघर्श करना पड़ता था। उसके पास कृषि और भवन निर्माण का भी ज्ञान नहीं था। सामान्यत यह माना जाता है कि यह चरण 9000 ई.पू. तक जारी रहा। This content prepared by Civils Tapasya portal, PT education



B. पुरा- मध्य- नव- पाषाण युग


पुरापाषाणकालीन औजार, जो लगभग 1,00,000 ई.पू. पुराने हो सकते हैं, छोटा नागपुर के पठार में पाये गये हैं। ऐसे औजार जो 20,000-10,000 ई.पू. दौर के हैं, आंध्रप्रदेश के कुरनूल जिले में पाये गये हैं। इनके साथ हड्ड़ियों के औजार और जानवरों के अवशेष भी पाये गये हैं। उत्तरप्रदेश के मिर्जापुर जिले की बेलन घाटी में प्राप्त जानवरों के अवशेष बताते हैं कि उस युग में भी बकरी, भेड़ और मवेशियों का पालन किया जाता था। हालांकि, पुरापाषाणकाल में मनुष्य शिकार के माध्यम से ही भोजन इकट्ठा करता था। पुराण बताते हैं कि ऐसे मनुष्यों का भी दौर था जो कंद और मूल खाकर अपना जीवन निर्वाह करते थे; इनमें से कुछ मनुष्य आज भी पहाड़ियों और गुफाओं मे रहकर प्राचीन तरीके से जीवन जी रहे हैं।

http://civils.pteducation.com, http://vartalapforum.PTeducation.com, https://pteducation.com


भारत में पुरापाषाणकालीन संस्कृति का विकास हिमयुग के प्रतिनूतन चरण (प्लीस्टोसीन) में हुआ। यद्यपि अफ्रीका में पाये गये पत्थर के औजारों और मानव अवशेषों को 2.6 मिलियन (26 लाख) वर्ष पुराना माना जाता है, भारत में मानव विकास के प्रारंभिक चिन्ह, जैसा कि पत्थर के औजारों से संकेत मिलता है, मध्य पुरापाषाण काल से ज्यादा पुराने नहीं हैं। पुरापाषाण चरण में पृथ्वी के एक बड़े हिस्से को बर्फ की चादर ने ढँक लिया था, विशेषकर उच्च उन्नातांश और उनकी परिधियों को। किंतु उष्णकटिबंधीय क्षेत्र, पहाड़ों को छोड़कर, बर्फ से मुक्त थे। दूसरी ओर, ये क्षेत्र भारी वर्षा के दौर से गुजरे।


पृथ्वी का महा इतिहास - ४५० करोड़ वर्ष एक चित्र में!


B.1 पुरापाषाण काल के चरण


भारत में पुरापाषाण काल को तीन चरणों में विभाजित किया जाता है, जिसमें लोगों के द्वारा उपयोग किये गये पत्थरों के औजारों की प्रकृति और वातावरण की प्रकृति को आधार मानते हैं। पहले चरण को प्रारंभिक या निम्न पुरापाषाणयुग, दूसरे को मध्य पुरापाषाणयुग और तृतीय को उपरि पुरापाषाण कहा जाता है। जब तक बोरी से प्राप्त कलाकृतियों के बारे में पर्याप्त सूचनायें उपलब्ध नहीं होती हैं, तब तक उपलब्ध वैज्ञानिक तथ्यों के आधार पर, पहले चरण को 2,50,000 ई.पू. से 1,00,000 ई.पू. के बीच रखा जा सकता है; द्वितीय चरण को 1,00,000 ई.पू. से 40,000 ई.पू., और तृतीय चरण को 40,000 ई.पू. से 10,000 ई.पू के बीच विभाजित किया जा सकता है।


  • [col]
    • निम्न पुरापाषाण या प्रारंभिक प्राचीनतम पत्थर का युग, हिमयुग का अधिकांश हिस्सा घेरता है। इस दौर की प्रमुख विशेषताओं में हाथ से बनी कुल्हाड़ी, बड़े चाकू और छुरे का उपयोग है। भारत में पाई जाने वाली कुल्हाड़ी पश्चिमी एशिया, यूरोप और अफ्रीका में पाई जाने वाली कुल्हाड़ियों के लगभग समान है। पत्थर के औजारांे को मुख्य रूप से कटाई करने के लिए, खोदने के लिए और जानवरों की चमड़ी निकालने के लिए उपयोग में लाया जाता था। प्रारंभिक प्राचीनतम पत्थर के युग के केन्द्र सोन नदी घाटी पंजाब में पाये जाते हैं जो अब पाकिस्तान में है। कुछ केन्द्र कश्मीर और थार मरूस्थल में पाए गये हैं।
    • निम्न पुरापाषाणकालीन औजार, उत्तरप्रदेश के मिर्जापुर जिले की बेलन घाटी में पाये गये हैं। राजस्थान के डीडवाना मरूस्थलीय क्षेत्र में पाये गये औजारों, बेलम और नरिनाड़ा घाटियों में पाये गये, तथा भोपाल के निकट भीमबेटका की गुफाओं में प्राप्त अवशेष लगभग 1,00,000 ई.पू. के हैं। चट्टानों के नीचे बने आवास सम्भवतः वर्षा से बचने के लिए उपयोग किये जाते होंगे। हाथ से बनी कुल्हाड़ियों का संग्रहण द्वितीय हिमालय हिमाच्छादन के दौरान हुआ। इस कालखंड में वातावरण थोड़ा कम नम हो गया था।

मध्यपाषाणकालीन उघोग/श्रम मुख्यतः पत्थर की पपड़ीे पर आधारित है। ये पपड़ी भारत के विभिन्न हिस्सों में पाये जाते हैं जिनमें क्षेत्रीय भिन्नतायें भी प्रतीत होती हैं। प्रमुख औजारों में धारदार, नुकीले, छेद करने वाले और पत्थर की पपड़ी से बने हथियार हैं। हमें कई जगह यह हथियार और औजार बड़ी मात्रा में मिलते हैं। मध्य पुरापाषाणकालीन चरण के भौगोलिक केन्द्र लगभग वहीं पाये जाते हैं जहाँ पर निम्न पुरापाषाणकालीन चरण के। यहाँ हमें कंकरों के बहुतायत में उपयोग की जानकारी मिलती है, जो तृतीय हिमालय हिमाच्छादन युग की समकालीन है। इस दौर की कलाकृतियाँ नर्मदा नदी के किनारों पर और तुगंभद्रा नदी के दक्षिण में भी पाई जाती हैं। This content prepared by Civils Tapasya portal, PT education

उपरि पुरापाषाण चरण तुलनात्मक रूप से कम नम था। यह हिमयुग के उस आखरी दौर के लगभग समानांतर था जो तुलनात्मक रूप से गर्म हो गया था। विश्व संदर्भ में यह यह चकमक पत्थर के उपयोग की शुरूआत का दौर था जब आधुनिक मानव होमो-सेपियन्स का उदय भी होने लगा था। भारत मंे, नुकीले और धारदार औजारों का उपयोग अंाध्र, कर्नाटक, महाराष्ट्र, केन्द्रीय मध्य प्रदेश, दक्षिणी उत्तर प्रदेश, दक्षिणी बिहार और उससे लगे क्षेत्रों में होने लगा था। भोपाल से 45 कि.मी. दूर भीमबेटका में उच्च पुरापाषाणकाल की गुफाएँ पाई गई हैं। गुजरात में भी उच्च पुरापाषाणकाल के औजारों से मिलते-जुलते हथियार जो तुलनात्मक रूप से बड़े हैं, जैसे कि बड़े धारदार चाकू नुकीले भाले आदि पाये गये हैं।


सभी कोर्स द्विभाषी है - हिंदी माध्यम छात्रों हेतु सर्वश्रेष्ठ | Courses for UPSC IAS preparations :   One Year course    Two year course    Three year course



इस प्रकार ऐसा लगता है कि पुरापाषाणकाल केन्द्र मुख्यतः पहाड़ी ढलानों और नदी घाटियों मंे पाये जाते हैं; वे सिंधु और गंगा के जलोढ़ मैदानों में उपस्थित नहीं हैं।

http://civils.pteducation.com, http://vartalapforum.PTeducation.com, https://pteducation.com



B.2 मध्यपाषाण काल: शिकारियों और चरवाहों का दौर


उच्च पुरापाषाणकाल का अंत लगभग 9000 ई.पू. हिमयुग की समाप्ति के साथ हो गया, और वातावरण गर्म और शुष्क हो गया। वातावरणीय परिवर्तनों के कारण वनस्पति में भी परिवर्तन होने लगे जिसके कारण मनुष्यांे के लिए यह सम्भव होने लगा कि वे नये क्षेत्रों की ओर आगे बढं़े। तब के बाद से वातावरण में कोई बड़े परिवर्तन नहीं हुए हैं। 9000 ई.पू.से पाषाण युग संस्कृति में एक मध्यवर्ती परिवर्तन देखने को मिलता है जिसे मध्यपाषाण काल कहा जाता है। यह दौर पुरापाषाण काल और नवपाषाणकाल के बीच एक संक्रमणकालीन दौर के रूप में प्रकट होता है। मध्यपाषाणकलीन लोग शिकार, मछली पकड़ना और भोजन को एकत्रित करना सीख गये थे और बाद के चरणों में वे पशुपालन भी करने लगे थे। इनमें से पहले तीन व्यवसाय तो उत्तर पाषाणकलीन दौर से ही जारी थे, जबकि अंतिम व्यवसाय नवपाषाण संस्कृति से संबंधित है।

मध्यपाषाणकालीन दौर के औजारों की एक प्रमुख विशेषता उनका सूक्ष्म पाशाण होना था। मध्यपाषाणकालीन केन्द्र बड़ी संख्या में राजस्थान, दक्षिणी उत्तर प्रदेश, मध्य और पूर्वी भारत तथा कृष्णा नदी के दक्षिण में पाये जाते हैं। इनमें से राजस्थान में स्थित बागोर में उत्खनन बहुत अच्छे से किया गया है। यहाँ सूक्ष्म औजारों की उपस्थिति बड़ी संख्या में पाई गई है और यहां के निवासी शिकार तथा पशुपालन से अपना जीवन व्यापन करते थे। यह केन्द्र पाचवीं मिलेनियम ई.पू. से ही उपयोग में लाया जा रहा था। मध्य प्रदेश में आदमगढ़ और राजस्थान में बागोर केन्द्र पशुपालन के प्रारम्भिक प्रमाण उपलब्ध कराते हैं; यह लगभग 5000 ई.पू के दौर के हो सकते हैं। सांभर झील से प्राप्त अवशेषों के अध्ययन से ज्ञात होता है कि राजस्थान में कृषि लगभग 7000 से 6000 ई.पू. प्रारंभ हुई।

इस प्रकार अभी तक मध्यपाषाणकलीन युग का वैज्ञानिक रूप से समय निर्धारण केवल कुछ ही जगह हो पाया है। मध्यपाषाणकालीन संस्कृति 9000 ई.पू. से 4000 ई.पू. तक जारी रही। इसमें कोई संदेह नहीं है कि इसने नवपाषाण संस्कृति के उदय मार्ग को प्रशस्त किया।

B.3 शिकारी, चरवाहे और प्रागैतिहासिक कलाकार


उत्तरपाषाण काल और मध्यपाषाण काल के लोग चित्रकला जानते थे। प्रागैतिहासिक कला कई जगहों पर प्रकट होती है किंतु मध्य प्रदेश में भीमबेटका इसका एक महत्वपूर्ण केन्द्र है। भोपाल से 45 कि.मी. दक्षिण में, विंध्य की पहाड़ियों में स्थित, इस स्थल पर 500 से ज्यादा चित्रित चट्टानंे पाई जाती हैं जो लगभग 10 वर्ग कि.मी. क्षेत्र में फैली हुई हैं। यह चट्टानी चित्रकला उत्तरपाषाणकालीन से मध्यपाषाणकलीन दौर तक की है और कहीं कहीं तो यह नवीन समय तक की हैं। किंतु अधिकांश चट्टानें मध्यपाषाणकालीन समय से संबंधित हैं। कई पक्षी, पशु और मनुष्यों के चित्र बनाये गये हैं। स्पष्ट तौर पर अधिकांश पशु और पक्षी जो चित्रों में प्रकट होते हैं वहीं हैं जिनका भोजन के लिए शिकार किया जाता था। ऐसे पक्षी जो अनाज खाकर जीते थे, प्रारम्भिक चित्रों में दिखाई नहीं देते हैं जो इस बात का स्पष्ट प्रमाण है कि वह शिकारियों का समाज था। This content prepared by Civils Tapasya portal, PT education

यह जानना रोचक है कि उत्तरी विंध्य की बेलन घाटी में तीनों चरण-पुरापाशाण मध्यपाशाण और नवपाशाण क्रम में पाये जाते हैं। ठीक यही सब कुछ नर्मदा घाटी के मध्य में भी होता है। किंतु नवपाषाणकालीन संस्कृति ने मध्यपाशाणकालीन संस्कृति की जगह ले ली, जो 1000 ई.पू. के लौह युग की शुरूआत तक जारी रही।


http://civils.pteducation.com, http://vartalapforum.PTeducation.com, https://pteducation.com



B.4 नवपाषाण काल: खाद्य उत्पादक


विश्व संदर्भ में नवपाषाण काल 9000 ई.पू. से प्रारंभ हुआ। भारतीय उपमहाद्वीप में पाया जाने वाली एकमात्र नवपाषाणकालीन बसावट 7000 ई.पू. के दौर की है जो पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रांत के मेहगढ में स्थित है। 5000 ई.पू में, प्रारंभिक अवस्था में, इस स्थल के लोग किसी प्रकार के मिट्टी के बर्तनों का उपयोग नहीं करते थे। विंध्य घाटी के उत्तरी ढलानों में भी कुछ नवपाषाणकालीन स्थल पाये जाते हैं जो 5000 ई.पू. के हो सकते हैं। लेकिन दक्षिण भारत में पाई जाने वाली नवपाषाण कालीन बस्तियां 2500 ई.पू. से ज्यादा पुरानी नहीं हैं; दक्षिणी और पूर्वी भारत के कुछ हिस्सों में भी यह स्थल 1000 ई.पू. तक के हो सकते हैं।













इस युग के लोग चमकदार पत्थरों से बने औजारों का उपयोग करते थे। वे मुख्य रूप से पत्थर से बनी कुल्हाड़ियों का उपयोग करते थे जो देश के पहाड़ी ढलानों वाले स्थलों में बड़ी संख्या में पाई गई हैं। लोगों द्वारा इस धारदार औजार का उपयोग कई तरह से किया जाता था, और प्राचीन पुराणों में परशुराम एक ऐसे नायक के रूप में उभरे जिनके हाथों में यह हथियार हुआ करता था। परषुराम  (विश्णु के अवतार व षिव के भक्त थे।)
 
नवपाषाणकालीन निवासियों के द्वारा उपयोग में लाये जाने वाली कुल्हाड़ियों के प्रकार के आधार पर, हमें नवपाषाणकालीन सभ्यता के तीन महत्वपूर्ण क्षेत्र देखने को मिलते हैं- उत्तर-पश्चिमी, उत्तर-पूर्वी और दक्षिणी। उत्तर-पश्चिमी नवपाषाणकालीन औजारों का समूह आयताकार कुल्हाड़ियां, जिनकी धार अर्द्ध-गोलाकार होती थी, को प्रदर्शित करता है। उत्तरपूर्वी समूह चमकदार पत्थरों से बनी ऐसी कुल्हाड़ियाँ दर्शाता है जो आयताकार होने के साथ-साथ उसमें लम्बी छड़ भी होती थी। दक्षिणी समूह ऐसी कुल्हाड़ियों के लिए प्रसिद्ध है जो अण्डाकार होती थीं और जिनके किनारे नुकीले होते थे।


सभी कोर्स द्विभाषी है - हिंदी माध्यम छात्रों हेतु सर्वश्रेष्ठ | Courses for UPSC IAS preparations :   One Year course    Two year course    Three year course



उत्तर पश्चिम में, कश्मीरी नवपाषाण संस्कृति इसकी सिरेमिक बर्तनों, पत्थरों और हड्डियों के विभिन्न प्रकार के औजारों तथा गुफानुमा निवासों के लिए प्रसिद्ध है, और इस दौर में सूक्ष्म पाशाण बिल्कुल नहीं पाये जाते। इसका एक महत्वपूर्ण स्थल बुर्जहोम है जिसका अर्थ होता है ‘जन्म स्थान‘ और यह श्रीनगर से 16 कि.मी. उत्तर-पश्चिम में स्थित है। नवपाषाणकलीन लोग यहां एक झील के किनारे बने गड्ढ़ों मे रहते थे और वे षायद शिकार और मछली मारकर अपना जीवन व्यापन करते थे। ऐसा प्रतीत होता है कि वे कृषि से परिचित थे। गुफ्कराल जिसका अर्थ होता है ‘कुम्हार की गुफा‘ के लोग, कृषि और पशुपालन दोनों ही व्यवसाय करते थे, यह स्थल श्रीनगर से 41 कि.मी. दक्षिण पश्चिम में है। कश्मीर में नवपाषाणकलीन लोग न केवल चमकीले पत्थरों से बने औजारों का उपयोग करते थे बल्कि यह जानना और भी रोचक होगा कि वे कई ऐसे औजारों और हथियारों का उपयोग करते थे जो हड्डियों से बने होते थे। पटना से 40 कि.मी. पश्चिम में गंगा के उत्तरी तट पर स्थित चिरंद एक मात्र ऐसा स्थल है जहाँ उल्लेखनीय मात्रा में हड्डियों से बनी चीजें पाई जाती है। हिरण के सींगों से बने यह औजार उन नवपाषाणकालीन स्थलों पर पाये जाते हंै जहाँ वर्षा 100 संे.मी. के आसपास होती है। यहाँ पर निवास इसलिए संम्भव हो सका क्योंकि यहाँ चार नदियाँ - गंगा, सोन, घाघरा, और गंडक मिलती है तथा खुली जगह उपलब्ध है। यह स्थल इसलिए उल्लेखनीय है क्योंकि यहां पत्थर के औजार कम मात्रा में पाये जाते हैं। This content prepared by Civils Tapasya portal, PT education


  • [message]
    • बुर्जहोम के लोग भद्दे, अपरिष्कृत धूसर बर्तनों का उपयोग करते थे। यह रोचक है कि बुर्जहोम में पालतु कुत्ते उनके मालिकों के साथ कब्र में दफनाये जाते थे। भारत के किसी और क्षेत्र में नवपाषाणकलीन लोगों के बीच यह परम्परा नहीं पाई जाती है। बुर्जहोम का प्रारंभिक समय 2400 ई.पू ज्ञात होता है किंतु चिरंद से प्राप्त हड्ड़ियां 1600 ई.पू. से ज्यादा पुरानी प्रतीत नहीं होती हैं, और सम्भ्वतः वे ताम्र-पत्थर दौर की होनी चाहिए।
    • नवपाषाणकालीन लोगों का दूसरा समूह दक्षिण भारत में गोदावरी नदी के दक्षिण में रहता था। वे सामान्यतः पहाड़ियों के शिखर पर या नदियों के किनारे पठारों पर रहते थे। वे पत्थर की कुल्हाड़ियां और पत्थर से बने धारदार चाकू का इस्तेमाल करते थे। पके हुए मिट्टी के बर्तन यह दर्शाते हैं कि वे बड़ी संख्या में मवेशी भी रखते थे। वे गाय, भैंस, भेढ़ और बकरियां पालते थे। वे पत्थर से बनी चक्की का उपयोग करते थे जो यह दर्शाता है कि वे खाद्य उत्पादन के बारे में जानते थे।
    • तीसरा क्षेत्र जहाँ नवपाषाणकालीन उपकरण पाये गये हैं वह है आसाम घाटी। नवपाषाणकालीन उपकरण भारत के उत्तरपूर्व सीमांत पर स्थित मेघालय की गारो घाटी में पाये गये हैं। इसके अतिरिक्त हमें विंध्य घाटी के उत्तरी ढ़लानों में स्थित मिर्जापुर और अलाहाबाद जिलों में भी बड़ी मात्रा में नवपाषाणकालीन बस्तियों के अवशेष मिलते हैं। अलाहाबाद जिले में स्थित नवपाषाणकालीन स्थल चावल की खेती के लिए प्रसिद्ध हैं जो 6 मिलेनियम ई.पू के हो सकते हैं।
    • कुछ महत्वपूर्ण नवपाषाणकालीन स्थल जिनकी खुदाई हुई है, उनमें कर्नाटक के मस्की, ब्रहमगिरी, हल्लूर, कोदेकल, संगानाकल्लू, नरसीपुर और टेक्कला कोटा है। आंध्र प्रदेश में पिकलीहार और उतनुर महत्वपूर्ण नवपाषाण स्थल हैं, दक्षिण भारत में नवपाषाणकालीन दौर 2000 ई.पू. से 1000 ई.पू. तक चला।
    • पिकलीहाल के नवपाषाणकालीन रहवासी पशुपालक थे। वे मवेशी भेड़, बकरियाँ आदि पालते थे। वे मौसमी शिविर लगाते थे, जिसमें वे मवेशियों का गोबर इकट्ठा करते थे। फिर पूरे मैदान पर आग लगा दी जाती थी जिससे की वह अगले मौसम के लिए सूखकर तैयार हो जाये। कर्नाटक में ब्रहमगिरी, हल्लूर, कोडेकल, पिकलीहाल, संगानाकल्लू, टी.नरसिंपुर, और टेक्कला कोटा, तथा तमिलनाडु में पायमपल्ली जैसे स्थलों की खुदाई में निवास स्थानों के साथ राख के ढेर भी मिले हैं।
    • नवपाषाणकालीन निवासी प्रारम्भिक कृषक समुदायों में से थे। वे पत्थर से बने कुदालों से मैदानों की खुदाई करते थे और उसके बाद सीमा रेखा बनाने के लिए मध्य आकार के पत्थर गाढ़ देते थे। वे चमकीले पत्थरों के अतिरिक्त सूक्ष्म पत्थर औजारों का भी उपयोग करते थे। वे गोलाकार या आयताकार मकानो में रहते थे जो मिट्टी के बने होते थे। यह माना जाता है कि गोलाकार मकानों मे रहने वाले ये आदिम मानव सामुदायिक सम्पत्ति की अवधारणा को मानते थे। नवपाषाणकालीन ये निवासी स्थायी निवासी के रूप में जीवन जीते थे। वे रागी और कुल्थी का उत्पादन कर लेते थे।
    • मेहगढ़ के नवपाषाणकालीन निवासी तुलनात्मक रूप से ज्यादा प्रगत थे। वे गेहूँ और कपास का उत्पादन करते थे और वे मिट्टी और ईट से बने घरों में रहते थे।

नवपाषाणकालीन दौर को कुछ निवासी बस्तियाँ अनाज की खेती और पशुपालन से परिचित हो गई थीं, उन्हें ऐसे बर्तनों की जरूरत होने लगी थी जिसमें वे अपने अनाज को एकत्रित कर सकें। इसके अतिरिक्त उन्हें खाना पकाने आदि के लिए मिट्टी के बर्तनों की आवश्यकता भी होने लगी। इसलिए इस दौर में सबसे पहले मिट्टी के बर्तनों के निर्माण की शुरूआत दिखाई देती है। प्रारंभिक अवस्था में हाथ से बने हुए मिट्टी के बर्तन पाये गये हैं। नवपाषाणकालीन दौर के बाद के निवासी बर्तन बनाने के लिए पहियों का इस्तेमाल करने लगे थे। उनके मिट्टी के बर्तनों में काले, धूसर, पके हुए बर्तन दिखाई देते हैं।

उड़ीसा और छोटा नागपुर की पहाड़ियों में नवपाषाणकलीन कुल्हाड़ी, बसुला, छैनी, हथौड़ी आदि जैसे औजार पाये गये हैं। किंतु मध्यप्रदेश और दक्कन केे उपरी हिस्सों में नवपाषाणकालीन बस्तियों की संख्या कम ही पाई गई है क्योंकि यहां उस प्रकार के पत्थर उपलब्ध नहीं थे, जिनकी पिसाई की जा सके और जिन्हें चमकीला बनाया जा सके।

9000 ई.पू.-3000 ई.पू. तक के कालखण्ड में पश्चिमी एशिया में उल्लेखनीय तकनीकी प्रगति हुई क्योंकि लोगों ने कृषि, सिलाई, बर्तन बनाना, घर निर्माण, पशुपालन आदि की कला सीख ली थी। किंतु भारतीय उपमहाद्वीप में नवपाषाण युग की शुरूआत 6 मिलेनियम ई.पू. ही हो सकी। इस काल खण्ड में कुछ महत्वपूर्ण फसलें जिसमें चावल, गेहूँ और जौ शामिल हैं, की खेती प्रारंभ हो गई थी और संसार के इस भाग में गाँव भी प्रकट होने लगे थे। ऐसा लगता है कि अब लोग सभ्यता की कगार पर खड़े थे।

पाषाणकालीन लोगों के साथ सबसे बड़ी समस्या यह थी कि वे केवल घाटी क्षेत्रों में ही बस्तियां बसा सकते थे क्योंकि उनके औजार और हथियार केवल पत्थर से बने होते थे। वे अपनी बस्तिया पहाड़ों की ढलानों, गुफाओं और नदी घाटियों में ही बसा सकते थे। इसके अतिरिक्त बहुत परिश्रम करने पर भी वे अपनी आवश्यकता से ज्यादा उत्पादन नहीं कर सकते थे। This content prepared by Civils Tapasya portal, PT education





Lecture continues here ...



C. ताम्रपाषाणकालीन कृषि संस्कृति

C.1 ताम्रपाषाणकालीन बस्तियां


नवपाषाणकाल के अंतिम दौर में धातुओं का उपयोग प्रारंभ हो गया था। सबसे पहले उपयोग की जाने वाली धातु ताँबा थी, और कुछ संस्कृतियां पत्थर और ताँबे के संयुक्त उपयोग पर आधारित थी। ऐसी संस्कृतियों को ताम्रपाषाण संस्कृति कहा जाता है। ताम्र अर्थात् ‘‘काॅपर/तांबा‘‘, और पाशाण अर्थात् पत्थर। तकनीकी रूप से, ताम्र-पत्थर दौर हड़प्पा संस्कृति का पूर्ववर्ती माना जाता है। ताम्रपाषाणकाल के लोग सामान्यतः पत्थर और ताँबे से बनी चीजो़ं का उपयोग करते थे, किंतु कभी-कभी वे निम्न स्तर के पीतल का भी इस्तेमाल करते थे। प्रारंभिक रूप से वे ग्रामीण समुदाय थे जो देश के उन हिस्सों में, जहां घाटियां और नदियां उपलब्ध थीं, फैले हुए थे। दूसरी ओर, हड़प्पा के लोग पीतल का उपयोग करते थे और वे शहरों में रहते थे जो सिंधु नदी घाटी के मैदानों से प्राप्त उत्पादों के दम पर बने थे। भारत में, ताम्रपाषाणकाल के निवास स्थल दक्षिणपूर्वी राजस्थान, मध्यप्रदेश के पश्चिमी हिस्सों, पश्चिमी महाराष्ट्र और दक्षिणी तथा पूर्वी भारत में पाये जाते हैं। दक्षिणीपूर्वी राजस्थान में दो स्थल, एक अहर में और दूसरे गिलन्ड में खोदा गया है। वे बानस घाटी के शुष्क क्षेत्रों में पाये गये। पश्चिमी मध्यप्रदेश में मालवा, कायथा और एरण नामक स्थल सामने आये हैं। मालवा में, मालवा ताम्रपाषाणकालीन संस्कृति के विशिष्ट केन्द्र पाये गये हैं तथा पश्चिमी भारत ताम्रपाषाण सिरेमिक बर्तनों के निर्माण में विशिष्ट माना जाता है। इसके बर्तन निर्माण की कला और संस्कृति के कुछ तत्व महाराष्ट्र में भी पाये जाते हैं। सिरेमिक अर्थात् चीनी मिट्टी।

किंतु सबसे सघन खुदाई पश्चिमी महाराष्ट्र में हुई है। कुछ ताम्रपाषाणकालीन स्थल जैसे कि अमहदनगर जिले के जोरवे, नेवासा, तथा दायमाबाद और पुणे जिले के चंदोली, सोनगांव, ईनामगांव आदि में खुदाई की गई है। वे सभी जोरवे संस्कृति के नाम से जाने जाते हैं जो अहमदनगर जिले में गोदावरी नदी की एक सहायक नदी प्रवर के किनारे स्थित जोरवे नामक स्थल के नाम पर रखा गया है। जोरवे संस्कृत, मालवा संस्कृति के लगभग समान है किंतु इसमें कुछ तत्व दक्षिणी नवपाशाण संस्कृति में भी पाये जाते हैं।

1400 ई.पूर्व से 700 ई.पूर्व की जोरवे संस्कृति आधुनिक महाराष्ट्र में फैली हुई है, सिवाय विदर्भ और तटीय कोंकण क्षेत्रों के। हालांकि जोरवे संस्कृति ग्रामीण थी, इसकी कुछ बस्तियां जैसे दायमाबाद और इनामगांव लगभग शहरी हो चुकी थीं। ये भी महाराष्ट्र की बस्तियां अर्ध-शुष्क क्षेत्रों में भूरी-काली मिट्टी जिसमें बेर व बबूल वनस्पति होती थी, स्थित थीं। इनके अतिरिक्त, हमें नर्मदा स्थित नवड़ाटोली भी मिला है। ताम्रपाशाणयुगीन तत्व दक्षिण भारत के नवपाशाण क्षेत्रों में प्रवेश कर चुके थे।



अनेक ताम्रपाषाणकालीन स्थल अलाहबाद जिले के विंध्य क्षेत्र में भी पाये गये हैं।

पूर्वी भारत में, गंगा के किनारे चिरंद के अतिरिक्त, बुर्दवान जिले के पंडुराजरधीबी और पश्चिम बंगाल के बीरभुम जिले में महिषादल का भी उल्लेख किया जा सकता है । कुछ अन्य स्थलों की खुदाई की गई है जिनमें बिहार के सेंवार, सोनपुर, तारीदिह तथा पूर्वी उत्तरप्रदेश में खैतादिह और नरहान प्रमुख हैं। 

इस संस्कृति के निवासी छोटे औजारों और हथियारों का इस्तेमाल करते थे जो पत्थर से बने होते थे और जिसके बाहरी छोर धारदार होने के कारण महत्वपूर्ण हुआ करते थे । कई स्थानों पर, विशेषकर दक्षिण भारत में, पत्थर से बने धारदार हथियारों को बनाने का उद्योग फला-फूला और पत्थर से बनी कुल्हाड़ियों का उपयोग जारी रहा। यह स्पष्ट है कि ऐसे क्षेत्र पहाड़ियों से दूर नहीं बसे थे। कुछ निवास स्थलों पर तांबे के बर्तन और औजार बड़ी मात्रा में मिलते हैं। ऐसा अहर और गिलन्ड में दिखाई पड़ता है जो राजस्थान की बानस नदी घाटी के शुष्क क्षेत्रों में बसे हैं। समकालीन नवपाषाण बस्तियों के विपरीत, कृषि संस्कृति में सूक्ष्म पत्थर औज़ारों का ना तो उपयोग होता था और ना ही बनाये जाते थे; पत्थर की कुल्हाड़ियों और धारदार औजारों का भी स्पष्ट अभाव दिखाई देता है। यहाँ पाई जाने वाली वस्तुओं में तांबे से बने हुए सपाट कुल्हाड़ी, चूड़ियाँ आदि हैं, हालांकि कहीं-कहीं पीतल की वस्तुएं पाई गई हैं। ताँबा स्थानीय स्तर पर उपलब्ध था। अहर के लोगों को प्रारंभ से ही धातु कला का ज्ञान था। अहर का प्राचीन नाम तांबावती था जिसका अर्थ होता है ताँबे प्रसंस्करण का स्थल। अहर संस्कृति का कालखण्ड 2100 ई.पू. से 1500 ई.पू. था और गिलन्ड अहर संस्कृति का क्षेत्रीय केन्द्र माना जाता है। गिलन्ड में ताँब की वस्तुएं केवल कुछ ही मात्रा में पाई गई हैं। यहाँ हमें पत्थर का औजारों का पूरा उद्योग देखने को मिलता है। सपाट, आयताकार तांबे की कुल्हाड़ियां जोरवे व चांदोली में पाई जाती हैं तथा तांबे की छैनी चंदोली महाराष्ट्र में पाई गई हैं।

नवपाषाण युग के निवासी विभिन्न प्रकार के मिट्टी के बर्तन उपयोग करते थे जिनमें से एक काला और लाल कहा जाता है जो 2000 ई.पू के बाद विस्तृत रूप से क्षेत्रों में उपयोग किया जाता था। इसे पहिये पर बनाया जाता था और अक्सर इसे सफेद रेखीय आकृतियों से रंगा जाता था। यह न केवल राजस्थान, मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र के निवास स्थलों के लिए सही है बल्कि बिहार और पश्चिम बंगाल के निवासी भी इसका उपयोग करते थे। महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश और बिहार के निवासी टोटी वाले बर्तन, थाली और प्याले नुमा बर्तन बना लेते थे। किंतु केवल मिट्टी के बर्तनों का उपयोग करने से ही सभी संस्कृतियों को समान नही कहा जा सकता वरन् इन विभिन्न संस्कृतियों में अंतर उनके द्वारा बर्तनों के निर्माण तथा उनके विभिन्न रूपों से स्पष्ट हैं। This content prepared by Civils Tapasya portal, PT education


  • [message]
    • ताम्रपाषाण युग में दक्षिण-पूर्वी राजस्थान, पश्चिमी मध्यप्रदेश, पश्चिमी महाराष्ट्र और अन्य स्थानों पर कृषि उत्पादन एवं पशुपालन किया गया। वे लोग भेड़, बकरी,  भैंस तथा सुअर पालते थे एवं हिरणों का शिकार करते थे। इन स्थानों पर मृत ऊँटों के अवशेष भी पाए गए हैं किंतु वे लोग घोड़ांे की प्रजाति सेे परिचित थे या नहीं इसका कोई संकेत नही है। कुछ अवशेष जो प्राप्त हुए, वे घोडे के हैं या गधे के, या जंगली गधे के, ये अभी स्पष्ट नही हो सका है। तत्कालीन लोग मांसाहारी थे, परंतु उनके द्वारा सुअर के माँस के सेवन की पुष्टि नही हुई है। 
    • यहाँ उल्लेखनीय यह है कि इन लोगों द्वारा गेंहू, चावल जैसी बुनियादी फसलें, बाजरा आदि के साथ साथ विभिन्न दालों जैसे-मसूर, काला चना, हरा चना, हरी मटर आदि का उत्पादन भी किया गया। ये सभी खाद्यान्न महाराष्ट्र के नेवदाटोली के नन्नदा तट पर पाए गए हैं। भारत में अन्य कोई ऐसा स्थान नही है जहां खुदाई के परिणामस्वरूप इतने सारे अनाजों का उत्पादन हुआ पाया गया है। नेवदाटोली के लोगों द्वारा अलसी इत्यादि का उत्पादन भी किया जाता था।
    • इसी प्रकार दक्कन की काली मिट्टी में कपास, रागी, बाजरा तथा निम्नवर्ती दक्कन के क्षेत्रों मे कई तरह के अनाजों का उत्पादन प्रचलित था। वहीं पूर्वी-भारत, जैसे-बिहार और पश्चिम बंगाल में, मछली पकड़ना, चावल उत्पादन आदि पाया गया। ताम्रपाषाण युग मेें पूर्वी क्षेत्र के लोगों का आहार मछली अैार चावल था, जो कि आज भी इस क्षेत्र का प्रचलित भोजन है। मुख्यतया राजस्थान की बनास घाटी, की बस्तियां छोटी हैं, किंतु अहार और गिलन्ड का क्षेत्र लगभग चार हेक्टेयर में फैला है।

सभी कोर्स द्विभाषी है - हिंदी माध्यम छात्रों हेतु सर्वश्रेष्ठ | Courses for UPSC IAS preparations :   One Year course    Two year course    Three year course



  • [col]
    • ताम्रपाषाणयुगीन लोग, मुख्यतया गिलन्ड के लोग 1500 ई.पू. के आसपास शायद जली ईंटांे के इस्तेमाल से परिचित नहीं थे क्योंकि उनके घर कभी-कभी मिट्टी की ईंटों के बने थे। ज्यादातर घरों का लीप कर निर्माण किया गया है और वे श्रृंखलित आपस मे सटे हुए घर थे। हालांकि अहर में लोग पत्थर निर्मित मकानों में रहते थे। अब तक की प्रमुख खोज में वे 200 दर्शनीय स्थल हैं, जो की दायमाबाद में गोदावरी घाटी के समीप हैं। यहां लगभग 4000 लोग 20 हेक्टेयर के फैलाव में रहे होंगे। यह क्षेत्र लगभग 20 हेक्टेयर है, व यहां मिट्टी की दीवार तथा मंजिलनुमा भवन होने के तथ्य पाये गये हैं। डायमाबाद, पीतल के सामान की एक बड़ी संख्या मे खोज के लिए, जिनमें से कुछ हड़प्पा संस्कृति से प्रभावित थे, प्रसिद्ध है।
    • इनामगाँव में, पश्चिमी महाराष्ट्र में पहले ताम्रपाषाणयुग में, गोल और घुमावदार मिट्टी के घरों की खोज की गई है। तत्पश्चात् (1300-1000 ईसा पूर्व) में पांच कमरे, (चार आयताकार और एक गोलाकार) के साथ एक घर था, जो इन बस्तियों के केंद्र में स्थित था। यह किसी एक प्रमुख का घर हो सकता है। इसे इनामगाँव में अन्न भंडारण के लिए भी इस्तेमाल किया गया हो सकता है। यहां सौ से अधिक घरों के पाये जाने की भी पुष्टि हुई है तथा यह क्षेत्र कई खाईयों एवं ढ़लानों से भी घिरा हुआ था। इनामगांव एक बड़ी ताम्रपाशाणयुगीन बस्ती थी।
    • ताम्रपाषाणयुग के लोगों को कला और शिल्प के बारे में ज्ञान था। वे स्पष्ट रूप से पत्थर एवं तांबा कारीगरी मे विशेषज्ञ थे। वहाँ उपकरण, हथियार और तांबे की चूडीयाँ पाई गई हैं व साथ ही क्वार्ट्ज क्रिस्टल, कीमती पत्थरों की निर्मित माला आदि भी पाई र्गइं। मालवा में लोग कताई और बुनाई की कला जानते थे। रेशम (कपास पेड़) की कपास रेशम से बने कपास, सन, रेशम और धागे का उपयोग महाराष्ट्र में पाया गया है। यह लोग अच्छी तरह से कपड़े के निर्माण से परिचित थे, ऐसा पता चलता है। विभिन्न स्थलों पर इन कलाओं के अलावा हम इनामगाँव में कुम्हारों, कारीगारों, हाथीदांत, चूना निर्माताओं और मृणमूर्ति कारीगरांे की झलक भी पाते हैं।



  • [message]
    • अनाज, मिट्टी के बर्तन की संरचना के संबंध में क्षेत्रीय अंतर ताम्रपाषाणयुग चरण में दिखाई देते हैं। पूर्वी भारत में चावल का उत्पादन, तो पश्चिमी भारत में जौ और गेहूं का उत्पादन किया गया। मालवा और केंद्रीय भारत, जिनमें कायथा और एरण काफी पूर्व ही बस चुके थे, जबकि पश्चिमी महाराष्ट्र और पूर्वी भारत के लिए यह समय काफी समय बाद आया।
    • हम दफन अवशेषों की प्रथाओं और इन लोगों के धार्मिक संप्रदायों के बारे में कुछ विचार बना सकते हैं। महाराष्ट्र के लोगों के व मृत अवशेष उनके घर के फर्श के नीचे कलषों में उत्तर-से-दक्षिण दिशा में दफन पाए गए। यह हड़प्पा सभ्यता जैसा ही मामला था क्योंकि वे भी इस उद्देश्य के लिए अलग कब्रिस्तान का उपयोग नहीं करते थे। बर्तन और कुछ तांबे की वस्तुएं भी इन मृत लोगों के अवशेषों के साथ पाई गईं।
    • महिलाओं की मृणमूर्ति से बनी आकृतियां दर्शाती हैं, कि ताम्रपाषाणयुग के लोग किसी देवी मां की पूजा अर्चना करते थे। कुछ नग्न मिट्टी की छोटी मूर्तियाँ भी पूजा के लिए इस्तेमाल की गईं। पश्चिमी एशिया मंे भी इसी तरह की देवी माँ की आकृतियों को पाया गया है। मालवा और राजस्थान में बैल की मृणमूर्ति की आकृतियां जो शायद उनका धार्मिक प्रतीक थीं, पाई गईं।

दोनों प्रथाएं सामाजिक असमानता की शुरुआत का संकेत देती हैं। संगीेकार चरण महाराष्ट्र में पायी कई जोरवे बस्तियों में प्रकट होता है। उनमें से कुछ बीस हेक्टेयर में प्रवासित थे, लेकिन दूसरे केवल पांच हेक्टेयर में प्रवासित थे। यह दो स्तरीय बस्तियों के अंतर का मतलब है कि बड़ी बस्तियों का छोटी बस्ती के लोगों पर प्रभुत्व था हालांकि बड़ी और छोटी दोनों बस्तियों में आयताकार घरों में रहा जाता था। प्रमुख व्यक्ति और उनके सहचर आयताकार झोपडियों में रहते थे जबकि अन्य लोग छोटे गोलाकार घरांे मे रहते थे। इनामगाँव में कारीगरों के घर पश्चिमी किनारे पर थे जबकि शायद केंद्र में प्रमुख का घर होता था। इन निवासियों के बीच सामाजिक दूरी का पता इस बात से चलता है, कि बच्चों के जो मृत कंकाल पाए गए उनमें कुछ की कब्र में केवल बर्तन मिले जबकि पश्चिमी महाराष्ट्र के चंदौली अैार नेवासा मे बच्चों की कब्र में उनका गर्दन के चारों ओर तांबा आधारित हार के साथ दफनाया गया पाया गया। इनामगाँव में एक वयस्क को बर्तनों और कुछ तांबे के साथ दफनाया गया था। कायथा के एक घर में, 29 तांबे की चूडीयां और दो अद्वितीय कुल्हाडीयों को पाया गया। वहीं मोती तथा कीमती पत्थरों का हार व बर्तन पाए गए। यह वस्तुए उनके पास थी, जो कि उन व्यक्तियों के धनी होने का संकेत है। This content prepared by Civils Tapasya portal, PT education


  • [message]
    • कालक्रम के अनुसार राजस्थान के सीेकर व झुंझुनु के ज्ञानेश्वर का भी वर्णन उचित होगा, जो कि खेतड़ी कि तांबे की खानों से समृद्ध क्षेत्र के करीब स्थित है। इस क्षेत्र से खुदाई के दौरान तांबा वस्तुओं में तीर, जाल, मत्स्य संबधित किताबें, चूडीयाँ, छैनी आदि मिले हैं। सिंधु-घाटी सभ्यता में देखी गई मृणमूर्ति सबंधित सामग्री भी पाई गई है। यह भी ताम्रपाषाण संस्कृति के प्रतीक हैं। यहां काले और मुख्य रूप से फूलदान रूपी चित्रित लाल बर्तन मिले, जो कि ओसीपी के बर्तन हैं।
    • ज्ञानेेश्वर क्षेत्र 2200-2800 ई.पू. की परिपक्व हड़प्पा संस्कृति के रूप में देखा जाता है। मुख्य रूप से ज्ञानेश्वर क्षेत्र ने हड़प्पा के लिए तांबे की वस्तुओं की आपूर्ति की किंतु उससे कुछ प्राप्ति नहीं हुई। ज्ञानेश्वर क्षेत्र के लोग आंशिक रूप से कृषि और बड़े पैमाने पर शिकार पर आश्रित थे। उनका प्रमुख शिल्पकार्य तांबा वस्तुओं का निर्माण था हालांकि हड़प्पा अर्थव्यवस्था के समान शहरी विकास नहीं कर पाए। ज्ञानेेश्वर क्षेत्र इसलिए क्षेत्रतः ओसीपी एवं ताम्र संस्कृति के रूप में नहीं माना जा सकता। अतः ज्ञानेश्वर क्षेत्र को पत्थर के औजार आदि के उपयोग के कारण ज्यादा परिपक्व हड़प्पा संस्कृति के निर्माण में योगदान देने वाली एक ताम्रपाषाण संस्कृति के रूप में माना जा सकता है।

कालक्रमानुसार भारत में ताम्रपाषाण बस्तियों की कई श्रृंखला रही हैं। कुछ हड़प्पा के पूर्व की हैं, व कुछ हड़प्पा संस्कृति के समकालीन हैं, और अन्य हड़प्पा के पश्चात् की हैं। हड़प्पा क्षेत्र के कुछ स्थानों को परिपक्व शहरी सिंधु सभ्यता से अलग करने के क्रम में पूर्वकालीन हड़प्पा कहा जाता है। इसी प्रकार, हरियाणा के बनावली और राजस्थान के कालीबंगन क्षेत्र को पूर्व हड़प्पा का ताम्रपाषाण चरण कहेंगे। ऐसा हीे पाकिस्तान के सिंध के कोटदीजी भी कहेंगे। एक कनिष्ठ समकालीन कायथा संस्कृति (1880-2000 ई.पू.) की है, और यह मिट्टी के बर्तन बनाते थे। यह पूर्व हड़प्पा प्रभाव को दर्शाता है व सभी क्षेत्र हड़प्पा शहरी संस्कृतियों के विकास से प्रभावित थे।

कई अन्य ताम्रपाषाण संस्कृतियां, जो परिपक्व हड़प्पा संस्कृति से अल्पावस्था की तो थीं, किंतु वे सिंधु सभ्यता के साथ नहीं जुडी थीं। नावदाटोली, ब्रान और नागदा में मालवा संस्कृति (1700-1200 ई.पू.) पाई गई, जिसे गैर हड़प्पा माना जाता है। वहीं विदर्भ और कोंकण के कुछ हिस्सों को छोड़कर पूरे महाराष्ट्र मे जोरवे संस्कृति (1400-700 ई.पू.) की पाई गई। देश के दक्षिणी और पूर्वी हिस्सों में ताम्रपाषाण संस्कृतियां बस्तियों स्वतंत्र रूप से हड़प्पा संस्कृति से अलग में विद्यमान थीं। दक्षिण भारत में वे नवपाषाण बस्तियों की निरंतरता में सदा ही पाई जाती हैं। विंध्य क्षेत्र, बिहार और पश्चिम बंगाल की ताम्रपाषाण संस्कृतियां भी हड़प्पा संस्कृति से संबंधित नहीं हैं।

  


पूर्व हड़प्पा ताम्रपाषाण संस्कृतियों के विभिन्न प्रकारों से सिंध, बलूचिस्तान, राजस्थान में कृषि के समुदायों के प्रसार को बढ़ावा मिला और हड़प्पा की शहरी सभ्यता के उदय के लिए स्थितियां पैदा हुईं। इसमंे राजस्थान के ज्ञानेश्वर, कालीबंगा एवं सिंध के आमरी व कोटदीजी शामिल हैं। कुछ ताम्रपाषाण कृशि संस्कृतियों के कृषि समुदायों ने सिंधु घाटी के बाढ़ इलाकों में जाकर बस्तियां बनाईं व कांस्य तकनीक सीखी। वे वहां षहर बनाने में सफल रहे।

मध्य और पश्चिमी भारत के सभी ताम्रपाषाण संस्कृतियों में केवल जोरवे संस्कृति 700 ईसा पूर्व तक जारी रही। हालांकि देश के कई हिस्सों मे ताम्रपाषाण संस्कृतियों के काले और लाल रंग के बर्तनों का उपयोग दूसरी शताब्दी ईसा पूर्व तक ऐतिहासिक समय में भी जारी रहा, लेकिन कुल मिलाकर लगभग 4-6 शताब्दियों का अंतर मध्य और पश्चिमी भारत के कायथा, प्रभास, प्रकाश, नासिक व में उपजे पूर्व एतिहासिक युग एवं ताम्रपाशाण युग में दिखाई देता है। ताम्रपाषाण बस्तियों के विनाश 1200 ई.पू. में शुरू हुई वर्षा में गिरावट की वज़ह से हुआ। वास्तव में ताम्रपाषाण युग के लोगों का जीवन शुष्क मौसम में काली मिट्टी क्षेत्र में लंबे समय के लिए खुदाई व कृषि द्वारा जारी नहीं रह सका। लाल मिट्टी वाले क्षेत्रों में, विशेष रूप से पूर्वी भारत में, ताम्रपाषाण युग चरण तुरंत लौह चरण में परिवर्तित हो गया, जो धीरे-धीरे संपूर्ण कृषि में तब्दील हो गया। इसी तरह दक्षिण भारत में ताम्रपाषाण युग कई स्थलों पर लोहे के उपयोग से पाषाण संस्कृति में तब्दील हो गया था। This content prepared by Civils Tapasya portal, PT education

C.2 ताम्रपाषाण युग का महत्व


जलोढ़ मैदानों और घने वनाच्छादित क्षेत्रों को छोड़कर, ताम्रपाषाण युग संस्कृतियों के निशानों की लगभग पूरे देश में खोज की गई है। इस चरण में लोग नदी तट पर ज्यादातर स्थापित थे। ये ग्रामीण बस्तियां पहाड़ीयांे से भी ज्यादा दूर नहीं थीं। जैसा कि पहले कहा, ये तांबे के कुछ उपकरणों एवं अन्य पत्थर के औजार का इस्तेमाल करते थे। उनमें से ज्यादातर तांबा गलाने की कला भी जानते थे, ऐसा लगता है। लगभग सभी ताम्रपाषाण युग के समुदाय पहिये पर लाल काले और बर्तन बनाने की कला जानते थे। उनके विकास के पूर्व के कांस्य चरण को देखते हुए, ज्ञात होता है कि वे चित्रित मिट्टी के बर्तनों का उपयोग खाना पकाने, खाने, पीने और भंडारण के लिए करते थे। वे लोटा और थाली का भी इस्तेमाल करते थे। दक्षिण भारत में, नवपाषाण चरण ताम्रपाषाण चरण में मिल गया और इसलिए इन संस्कृतियों को नवपाषाण-ताम्रपाषाण कहा जाता है। पश्चिमी महाराष्ट्र और राजस्थान के अन्य भागों में ताम्रपाषाण लोगों को उपनिवेशवादि देखा गया है। मालवा और मध्य भारत के कायथा और एरण में इसका प्रभाव दिखाई देता है। पश्चिमी महाराष्ट्र में यह बाद में दिखाई दिया व पश्चिम बंगाल में काफी बाद में उभरा।

ताम्रपाषाण युग समुदायों द्वारा प्रायद्वीपीय भारत में पहली बार बड़े गांवों की स्थापना की गई। नवपाषाण समुदायों के मुकाबले ताम्रपाषाण युग के लोगों ने कहीं अधिक अनाज की खेती की। विशेष रूप से वे जौ, गेहूं और मसूर की पश्चिमी भारत में, व दक्षिणी भारत और पूर्वी भारत में चावल की खेती करते थे।




http://civils.pteducation.com/p/powerofapti.html


उनके खाद्यान्न की पूर्ति मांसाहार से की जाती थी। पश्चिमी भारत में मांसाहारी भोजन की अधिकता है, जबकि मछली और चावल पूर्वी भारत के आहार का महत्वपूर्ण तत्व है। संरचनाओं के गठन के अधिक अवशेष पश्चिमी महाराष्ट्र, पश्चिमी मध्य प्रदेश और दक्षिण पूर्वी राजस्थान में पाए गए हैं। मध्य प्रदेश में कायथा और एरण में, तथा पश्चिमी महाराष्ट्र में इनामगाँव की बस्तियां गढ़-रूपी थीं। दूसरी ओर, पूर्वी भारत में चिरंद और पांडु रजर दलिबी में घरांे की संरचनाओं के अवशेष कमजोर हैं, जो छेदवाले और गोल घरांे का संकेत हैं। वे लोग गरीब थे। दफनाने की प्रथाएं भी अलग थीं। महाराष्ट्र में मृतकों को उत्तर-दक्षिण स्थिति में रखा गया था। लेकिन दक्षिण भारत में पूर्व-पश्चिम की स्थिति में। लगभग पूर्ण विस्तारित दफन प्रक्रिया पश्चिमी भारत में प्रचलित थी, लेकिन आंशिक दफन पूर्वी भारत में प्रबल था।

C.3 ताम्रपाषाण संस्कृतियों की सीमाएं


ताम्रपाषाण संस्कृति के लोग भेड़ व बकरी पालन तक सीमित थे। शायद वे पालतू जानवरों की भोजन के लिए बलि देते थे, पर पेय और डेयरी उत्पादों के लिए उनका उपयोग नहीं करते थे। ऐसे ही बस्तर की गोंड जनजाति में आदिवासी दूध का सेवन नही करते हैं, क्योंकि उनका सोचना है कि दूध पशुओं के बच्चों को पिलाने के लिए है। इसलिए ताम्रपाषाण संस्कृति के लोग जानवरों का पूरा उपयोग नहीं कर पाते थे। इसके अलावा, मध्य और पश्चिमी भारत के काली कपास मिट्टी क्षेत्र में रहने वाले ताम्रपाषाण संस्कृति के लोगों द्वारा गहन या व्यापक पैमाने पर खेती का अभ्यास नहीं किया गया। न हल, ना ही कुदाल के चिन्हों को ताम्रपाषाण स्थलों पर पाया गया। केवल छिद्रित पाषाण डिस्क पाए गए जिनका खेती में इस्तेमाल किया जा सकता था, जो खुदाई बोवनी में काम आते थे। काली मिट्टी पर गहन या व्यापक खेती का ताम्रपाषाण संस्कृति में कोई स्थान नहीं था क्योंकि इसमें लोहे के औजार के उपयोग की आवश्यकता थी। वहीं पूर्वी भारत के लाल मिट्टी वाले क्षेत्रों में रहने वाले ताम्रपाषाण संस्कृति के लोगों को भी इसी कठिनाई का सामना करना पड़ा।

ताम्रपाषाण संस्कृति की कमजोरी, पश्चिमी महाराष्ट्र में बच्चों के मृत शरीरों का एक बड़ी संख्या मंे गड़े पाये जाने से स्पष्ट है। खाद्य उत्पादक अर्थव्यवस्था के बावजूद तब शिशु मृत्यु की दर बहुत अधिक थी। यहां पोषण की कमी, चिकित्सा ज्ञान का अभाव या महामारी के फैलने को जिम्मेदार ठहराया जा सकता है। ताम्रपाषाण संस्कृतियों की सामाजिक और आर्थिक पद्धतियों ने दीर्घायु को बढ़ावा नहीं दिया था।


http://civils.pteducation.com, http://vartalapforum.PTeducation.com, https://pteducation.com


ताम्रपाषाण संस्कृति प्रमुख रूप से ग्रामीण पृष्ठभूमि की थी। इसके प्रथम चरण के दौरान तांबे की आपूर्ति सीमित थी और एक धातु के रूप में, तांबे की अपनी सीमाएं थीं। स्वयं तांबा कठोर पदार्थ-नहीं होता। तांबे के साथ लोहे के मिश्रण और इस तरह पीतल का निर्माण करना वे नहीं जानते थे, जिसने मिस्र और मेसोपोटामिया में, और सिंधु घाटी में प्रथम सभ्यताओं के उत्थान में मदद की।

ताम्रपाषाण संस्कृति के लोग लिखने की कला नहीं जानते थे और न ही कांस्य युग के लोगों की तरह वे षहरों में रहते थे। हम भारतीय उपमहाद्वीप के सिंधु क्षेत्र में सभ्यता के इन सभी तत्वों को प्रथम बार देख सकते हैं। देश के बड़े हिस्से मे मौजूद ताम्रपाषाण संस्कृतियां जो सिंधु घाटी सभ्यता से बाद की थीं, वे सिंधु लोगों के उन्नत तकनीकी ज्ञान से किसी भी तरह पर्याप्त लाभ प्राप्त नहीं कर पाईं।

C.4 ताम्र कृतियां और गेरूवर्णी पात्र का चरण


अंगूठियां, तलवारें और मानव की तरह आकृतियां आदि ऐसी कुल चालीस से अधिक तांबे की कृतियों के भंड़ार पश्चिम बंगाल और उड़ीसा से लेकर पूर्वी गुजरात और हरियाणा, एवं आंध्र से लेकर उत्तर प्रदेष के व्यापक क्षेत्रों में पाये गये हैं। सबसे ज्यादा ताम्र अवशेष मध्य प्रदेश के गंगेरिया मे पाए गए। यहां 424 तांबा उपकरणों, हथियारों और चांदी की वस्तुओं में 102 पतली शीट शामिल हैं। लेकिन तांबा की लगभग आधे भंड़ार सामग्री गंगा यमुना तट में केंद्रित रहे है। अन्य क्षेत्रों में हम तांबे के एंटीने, तलवारें और मानवरूपी आंकृतिया पाते हैं, जो न केवल मछली पकड़ने, शिकार और लड़ाई के लिए बल्कि कृषि उपयोग के लिए भी बनाए गए थे। उनमें अच्छा तकनीकी कौशल और ज्ञान लगाया जाता है। ऐसा अंदेशा है कि ये लोग खानाबदोश नहीं हो सकते। पश्चिमी उत्तर प्रदेश में दो स्थानों पर खुदाई में इन वस्तुओं में से कुछ गेरूवर्णी पात्र और कुछ मिट्टी की संरचनाओं की खोज की गई है। एक स्थान पर पक्की ईंट के टुकड़े, व पत्थर के औजार भी खुदाई में पाए गए हैं। यह सब उन लोगों के खुशहाल जीवन का वर्णन करते हैं। ताम्रपाषाण संस्कृति के लोग किसान और कारीगर हुआ करते थे, ऐसा पता चलता है। अधिकांश गेरूवर्णी पात्र ऊपरी भाग में पाए गए लेकिन तांबे की कृतियां बिहार के पठार क्षेत्रों और अन्य क्षेत्रों में पाई जाती हैं। कई तांबे की कृतियां राजस्थान के खेतड़ी क्षेत्र में पाई गई हैं। This content prepared by Civils Tapasya portal, PT education


  • [col]
    • गेरूवर्णी पात्र वाली संस्कृति की अवधि को मोटे तौर पर 2000 ईसा पूर्व से 1500 ई.पू. के बीच रखा जा सकता है, जो अष्ट वैज्ञानिक गणना के आधार पर है। खाड़ी का अध्ययन गेरूवर्णी बस्तियों के बारे में 1000 ई.पू. तक ही बता पाता है क्योंकि इसके बाद ये बस्तीयां थी या नही इसका अनुमान नही हैं। हम काले और लाल रंग के मृदभांड का उपयोग करने वाले लोगों के पुरावशेषों से उनके  सांस्कृतिक उपकरणों की एक स्पष्ट और विशिष्ट विचार के रूप में पहचान नहीं कर सकते हैं।
    • राजस्थान और हरियाणा की सीमा पर 1.1 मीटर की मात्रा मे ओसीपी की परत जमा मिली है। वे एक बहुत विस्तृत क्षेत्र में फैले हुए थे तथा पिछले एक या दो सदी से भी अधिक के लिए इन बस्तियों का वहां रहवास रहा हालांकि ये बस्तियां कब स्थपित हुई व  इन बस्तियों का अंत क्यों हो गया, यह स्पष्ट नहीं है। एक सुझाव यह रहा कि एक व्यापक क्षेत्र में पानी के प्रवेश द्वारा सैलाब की स्थिति निर्मित होने से मानव बस्तियों का विनाश हो गया होगा। गेरूवर्णी मृदभांड वर्तमान मुलायम बनावट, कुछ विद्वानों के अनुसार काफी अवधि के लिए पानी में रहने के परिणामस्वरूप है।

ओसीपी के बर्तन उपयोग करने वाले लोग हड़प्पा सभ्यता के समकालीन थे, जहां गेरूवर्णी पात्र वाले क्षेत्र में व हड़प्पा सभ्यता के मध्य शायद ओसीपी और पीतल की सामग्रियों का वस्तु-विनिमय हुआ करता होगा।

D. मानव क्रम-विकास के सिद्धांत


पिछले कुछ दशकों से वैज्ञानिकों ने आधुनिक मानव की उत्पत्ति की व्याख्या करने के लिए 3 मुख्य मॉडल बनाए, जिनमंे बाह्य अफ्रीकी मॉडल, आत्मसात मॉडल और बहुक्षेत्रीय मॉडल हैं। जीवाश्म, पुरातात्विक और आनुवंशिक सबूत, इस सदी की शुरुआत से ही नव अफ्रीकी मूल मॉडल को प्रमुखता देने की ओर इंगित करता है।

नव अफ्रीकी मूल मॉडलः वैज्ञानिक पत्रिका नेचर मे डीएनए और मानव विकास पर एक लेख 1987 मे प्रकाशित हुआ, जिसने मानव विकास में सूत्रकणिका के महत्व की ओर स्पष्ट  इषारा कर दुनिया को हिलाकर रख दिया। यह हमारे जीनांे के समूह का हिस्सा है। इससे यह स्पष्ट हुआ कि यह सुत्रकणिका 200.000 वर्ष पूर्व एक अफ्रीकी पूर्वज से व्युत्पन्न, केवल मां और बेटियों के माध्यम से विरासत में मिला है। इस महिला पूर्वज को सुत्रकणिका ईव के रूप में जाना जाता है।


  • [message]
    • प्राकृतिक इतिहास संग्रहालय के मानव मूल के विशेषज्ञ क्रिस स्ट्रिंगर और दूसरे वैज्ञानिकों ने भी हम तत्कालीन अफ्रीकी मूल थे इन विचारों का समर्थन किया।
    • अगले दशक में, तत्कालीन मानव से और नवपाषाण जीवाश्मों, दोनों से आनुवंशिक आंकडे एकत्र किये  गये जो तत्कालीन अफ्रीकी मूल माॅडल का समर्थन करते हैं। आधुनिक मनुष्य ने 60,000 साल पहले अफ्रीका छोड़ना शुरू किया और पूरी तरह से महाद्वीप के बाहर, बस गया। यहां अन्य पुरातन मानव प्रजाति के भी प्रमाण हैं।

बहुक्षेत्रीय मॉडलः बहुक्षेत्रीय मॉडल में मानव श्रृंखला को संकरण द्वारा एक साथ अफ्रीका, यूरोप, एशिया और आस्ट्रेलिया के प्रत्येक बसे हुए क्षेत्र में विकास के समानांतर रखा।

मानव जाति में विशिष्ट ठोड़ी और ऊंचे मस्तक वाले आधुनिक मानव (होमो सेपियंस) खोपड़ी पुनर्निर्माणः इस मॉडल के तहत, होमो सेपियंस के आधुनिक रूप के लिए कोई वास्तविक उत्पत्ति प्रतीत नहीं होती, किंतु ठोड़ी और हमारे उच्च माथे की बनावट अफ्रीका क्षेत्र में संकरण के माध्यम से फैला है।

आत्मसात मॉडलः आत्मसात मॉडल वैज्ञानिकों के एक अन्य समूह का एक तीसरा सिद्धांत है। तत्कालीन अफ्रीकी मूल मॉडल की तरह इसमंे अफ्रीका आधुनिक मानव की विशेषताएं व विकास की महत्वपूर्ण भूमिका दी गई हैं, लेकिन यहा क्रमिक प्रसार की कल्पना की गई। इस दृश्य के तहत, नवपाषाण और उनके जैसे पुरातन लोग बड़े पैमाने पर संकरण के माध्यम से आत्मसात कर रहे थे। इस आधुनिक मानव की स्थापना तेजी से बदलने के माध्यम के बजाय आबादी के सम्मिश्रण के माध्यम से हुई थी।

डीएनए साक्ष्य से नई अंतर्दृष्टि: डीएनए साक्ष्य से नई अंतर्दृश्टि हाल ही के वर्षों में मिली है। प्राचीन डीएनए की प्राप्ति और विश्लेषण के लिए तकनीक में अग्रिम क्रांति ने हमारे मानव विकासवादी वंश-वृक्ष के बारे में नए रहस्यों को खोला है। विशेष रूप से इन दो अध्ययनों ने हमारी प्रजाति के विकास के बारे में हमारी सोच को काफी प्रभावित किया है।



सभी कोर्स द्विभाषी है - हिंदी माध्यम छात्रों हेतु सर्वश्रेष्ठ | Courses for UPSC IAS preparations :   One Year course    Two year course    Three year course



निअंडरथल जीनोमों का समूहः  2010 में, कई नवपाषाण जीवाश्मों की आनुवंशिकी के बारे में 60 प्रतिशत तक प्रथम बार पता चला था और हमें अपनी प्रजाति के विकास में आश्चर्यजनक अंतर्दृष्टि मिलना शुरू हुई। नवपाषाण जीनों के समूह की जब अलग महाद्वीपों के आधुनिक मानवों के साथ तुलना की गई, तो उनमें यूरोप, एशिया और न्यू गिनी से आधुनिक आबादी की आनुवंशिक साझेदारी वर्तमान अफ्रीकियों के मुकाबले अधिक पाई गई।

इसका सबसे बेहतर विषलेशण यह होगा कि थोड़े से निअंडरथल लोगों ने आज के यूरोपीय, एशियाई और न्यू गिनी के लोगों के पूर्वजों के साथ विवाह/मिलन किया होगा, 60,000 वर्ष पूर्व जब उन्होंने अफ्रीका छोड़ा ही होगा। साईबेरिया की डेनीसोवा गुफा से मिले जीवाष्म दाढ़ दांत से निकाले गये डी.एन.ए. से वर्तमान मानव समूहों के साथ उनके संबंधों का पता चलता है। This content prepared by Civils Tapasya portal, PT education

उसी वर्ष, एक जीवाष्म उंगली और जीवाष्म दाढ़ दांत साईबेरिया के डेनीसोवा गुफा में पाये गये थे, जीनों के आकड़ों ने यह बताया कि वे एक भूतपूर्व रूप से गैर पहचानी गई निअंडरथल रेखा का प्रतिनिधित्व करते थे जो एशिया से निकली थी। किन्तु, आंकड़ों ने कुछ आश्चर्यजनक चीज भी दिखाई। उन्होंने बताया कि आज के दक्षिण-पूर्वी एशिया के मेलनेशियाई लोग डेनीसोवन से संबंधित है, क्योंकि उनका अनुवांषिक कोड 5 प्रतिशत तक मिलता-जुलता है, और यही खोज हम आॅस्ट्रेलिया में पाये जाने वाले मूल निवासियों पर भी लागू कर सकते हैं। यह सब मिलकर प्रजातियों के अन्तर्मिलन के स्पष्ट सबूत पेश करते है।

निअंडरथल और डेनीसोवा के अनुवांषिक अध्ययनों ने हमारे प्राचीन अस्तित्व को एक रोमांचक मोड़ दे दिया है। दोनों से ही यह पता चलता है कि आधुनिक मानवों ने अन्य मानव प्रजातियों को पूरी तरह से प्रतिस्थापित नहीं कर दिया था, किन्तु कुछ अंतर्मिलन हुआ होगा।

भीमबेटका प्रागैतिहासिक ख़ज़ाने ने सभी युगों के अवशेष प्रस्तुत किये हैं (मध्य भारत में)




http://civils.pteducation.com, http://vartalapforum.PTeducation.com, https://pteducation.com

Green paintings at Bhoranwali, Bhimbetka, MP, India




http://civils.pteducation.com, http://vartalapforum.PTeducation.com, https://pteducation.com

Mythical Boar, Bhoranwali, Bhimbetka




http://civils.pteducation.com, http://vartalapforum.PTeducation.com, https://pteducation.com

Rock paintings at Zoo-rock, Bhimbetka








[##link## Read this in English]   [##diamond## Go to PT Gurukul for best online courses]



All Govt. Exams  News Headlines   Quizzes  |  UPSC CSE  Quizzes   Current Affairs  Compilations  Answer-writing   |  STUDY RESOURCES  GS-Study Material  |  APTITUDE  Power of Apti  PT Boosters  |  TEST SERIES  CSE 2018 Test Series   Tapasya Annual Package  |  PREMIUM RESOURCES  Here  |  FULL COURSES  Self-Prep Course  Online Course  |  BODHI BOOSTER 


नीचे दी गयी कमेंट्स थ्रेड में अपने विचार लिखें! 

COMMENTS

Name

Ancient History,1,Climate change,1,Environment & Ecology,1,India's independence struggle,1,Indian history,2,Industrial revolution,1,Periodization,1,UPSC Mains GS I,3,UPSC Mains GS III,1,UPSC Prelims,4,World History,2,सिविल्स तपस्या - हिंदी,4,
ltr
item
PT's IAS Academy: भारतीय इतिहास - अध्ययन सामग्री १ - प्राचीन इतिहास एवं काल चक्र - सिविल्स तपस्या पोर्टल
भारतीय इतिहास - अध्ययन सामग्री १ - प्राचीन इतिहास एवं काल चक्र - सिविल्स तपस्या पोर्टल
हमारी पृथ्वी ४५० करोड़ वर्ष प्राचीन है। आइये, हम इसकी यात्रा समझें, और मानवता के प्रथम पदचिन्ह भी। प्रागैतिहासिक रहस्य खुलने का समय आ गया!
https://4.bp.blogspot.com/-noKAho6qCzY/WY_PjMSipuI/AAAAAAAAHUo/sVlGojjvro4VeIByKPZEFh2C1Amw4EZMgCLcBGAs/s1600/Age%2Bof%2BEarth%2B1.jpg
https://4.bp.blogspot.com/-noKAho6qCzY/WY_PjMSipuI/AAAAAAAAHUo/sVlGojjvro4VeIByKPZEFh2C1Amw4EZMgCLcBGAs/s72-c/Age%2Bof%2BEarth%2B1.jpg
PT's IAS Academy
http://civilshindi.pteducation.com/2017/08/Civils-Tapasya-Hindi-Mains-GS-I-Prelims-Ancient-Indian-History-Periodization-Palaeo-Meso-Neolithic-ages.html
http://civilshindi.pteducation.com/
http://civilshindi.pteducation.com/
http://civilshindi.pteducation.com/2017/08/Civils-Tapasya-Hindi-Mains-GS-I-Prelims-Ancient-Indian-History-Periodization-Palaeo-Meso-Neolithic-ages.html
true
8036849330950714964
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow TO READ FULL BODHI... Please share to unlock Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy